Indian Porn Kahani मेरे गाँव की नदी
04-30-2019, 12:17 PM,
#1
Lightbulb  Indian Porn Kahani मेरे गाँव की नदी
अरे कल्लु कहा चल दिया सूरज सर पर है और तू है की बार बार नदी की तरफ जा रहा है सुबह से तीन दफ़ा जा चूका है।
आज क्या तेरा पेट ख़राब है।
मेरे बाबा ने मुझे खेत से नदी की और जाते हुए देख कर कहा।
मैंने कहा हाँ बाबा आज तो सुबह से पेट गड़बड़ हो रहा है क्या करू बार बार लग रही है।
बाबा ने हँसते हुए कहा जा जल्दी करके आ जा और जरा सोच समझ कर खाया कर फिर तो जब खाने को मिलता है तो तबियत से पेल लेता है और आगा पीछा कुछ नहीं सोचता।
मेरी गाण्ड फ़टी जा रही थी और बाबा था की लैक्चर मार रहा था मै जल्दी से नदी के पास पंहुचा और निचे उतरने लगा।
दरअसल हमारे खेत के पास की नदी गर्मियो में सुख जाती थी और उसमे इतना ही पानी बचता था की लोग अपनी गाण्ड धो सके, मै झाड़ियो के बीच जाकर अपनी धोती खोल कर बैठ गया तभी मुझे कुछ आवाज सी सुनाइ दी।

आवाज किसी औरत की थी, लेकिन आह बीरजु
क्या कर रहा है बेटा की आवाज सुनते ही मेरी तो टट्टी बंद हो गई मैंने जल्दी से अपनी गाण्ड धोइ और चुपके से झाड़ियो के पीछे जहा से आवाज आ रही थी उस तरफ बैठे बैठे ही आगे बढ़ने लगा।
मेरे रोंगटे तो बिरजु शब्द सुनते ही खड़े हो गये थे क्यों की मै उस औरत की आवाज पहचान चूका था वह मेरी चाची संतोष की आवाज थी और मेरे चचेरे भाई का नाम बिरजु था।
बीरजु से मेरी बिलकुल नहीं बनती थी वह मुझसे एक साल छोटा था, लेकिन था मेरा भाई ही पर उसका बाप शहर में पंचायत में नौकर था तो दोनों माँ बेटो के भाव कुछ ज्यादा ही था, घमण्ड सर चढ़ कर बोलता था, लेकिन वही मेरी माँ और चाची में काफी जमती थी, वैसे भी सुना जाता है की पहले माँ बहुत सीधी साधी थी लेकिन जब से चाची से मिली तब से काफी तेज तरार हो गई थी।
अब मै जरा अपने बारे में बता दू फिर कहानी की ओर चलते है।

मेरा नाम कल्लु है मै 20 साल का हु मेरे दादा जी मेरे लिए काफी जमीन छोड़ कर गए जिसमें हम बाप बेटे खेती करते है।
हल चलाते है, खेती किसानी के काम के चलते मेरा शरीर काफी बलिश्त और लम्बा है, मेरे पिता जी की दूसरी शादी हुई है पहली के मरने के बाद मेरे पिता जी ने मेरी माँ निर्मला से शादी कर ली, मेरे पिता जी 50 पार कर चुके है जबकि मेरी माँ उनसे बहुत छोटी केवल 38 साल की है याने मुझसे सिर्फ 18 साल ही बड़ी है, गांव में लड़कियो की शादी कम उम्र में ही हो जाया करती है इसलिए कम उम्र में ही माँ की शादी हो गई और 18 की उम्र में मै पैदा हो गया, मेरी माँ बहुत खूबसूरत और सेक्सी नजर आती है, मेरी एक छोटी बहन भी है 18 साल की जिसका नाम गीतिका है लेकिन प्यार से हम सब उसे गुड़िया भी कहते है, मेरे बाबा का बड़ा मन था उसे डॉक्टर बनाने का इस्लिये उनहोने उसे शहर भेज दिया था पढने के लिये, वह काफी सुन्दर और बिलकुल मेरी माँ के जैसी गदराई हुई और सेक्सी है।
वह पढने में बड़ी तेज है शहर में हॉस्टल में रह कर पढाई करती है और एक महिने में एक बार गांव जरुर आती है।
-  - 
Reply

04-30-2019, 12:17 PM,
#2
RE: Indian Porn Kahani मेरे गाँव की नदी
लेकिन अभी मेरी माँ की तो यह हालत है की उसको देख कर हर किसी का मन उसे चोदने का होता है यह बात मैंने गांव के लोगो की जो नजर मेरी माँ पर
पडती है उससे मैंने जाना। माँ बहुत गदरा गई है और उसके बदन पर चर्बी भी बढ़ गई है जिसके कारन उसका पेट काफी उभरा हुआ नजर आता है वह घाघरा भी नाभि के निचे ही पहनती है, हमारे यहाँ घाघरा और चोली पहनने का ही चलन है माँ का घाघरा घुटनो तक और बहुत घेरे वाला होता है, उनके चुचे और उनकी गाण्ड बहुत उठि हुई और मोटी है, उनकी गाण्ड देखते ही लौंडा खड़ा हो जाये इस बात की ग्यारंटी है, वह भी हमारे साथ खेतो में काम करती है।

हाँ तो जब मैंने देखा की आवाज पास की झाड़ियो के पीछे से आ रही है तब मै झाड़ियो के पास जाकर पीछे देखने लगा, लेकिन खोदा पहाड और निकली चुहिया वाली बात थी, संतोष चाची के पैर में कान्टा लगा हुआ था और उसका बेटा बिरजु उसके पैरो से काँटे
को निकाल रहा था संतोष चाची अपने दोनों हांथो को जमीन पर पीछे टेके हुए अपनी एक टाँग उठा कर अपने बेटे के मुह की ओर देख रही थी।
लेकिन मैंने देखा बिरजु का ध्यान काँटा निकालने की बजाय अपनी माँ के घाघरे के अंदर उसकी जांघो की जोडो की ओर देख रहा था।

संतोष : क्या हुआ मुये कितनी देर लगाएगा तुझसे एक कांटा भी नहीं निकाला जाता है, जल्दी कर मेरा पैर उठाये उठाये दर्द करने लगा है।
बीरजु : अरे माँ काँटा भी तो देखो कितनी बीच में घुसा है जरा चुप चाप बैठो निकाल रहा हु और अपने पैर न हिलाओ।
संतोष चाची आँखे बंद किये हुए अपने चहरे पर सारा दर्द समेटे आह ओहः कर रही थी और बिरजु था की अपनी माँ की बुर देखने की कोशिश कर रहा था, तभी बिरजु ने अपनी माँ की टाँगो को थोड़ा चौड़ा कर दिया और बिरजु तो बिरजू, संतोष चाची की चुत की फटी हुई फाँके मुझे भी साफ नजर आ गई, वह दोनों नहीं जानते थे की मै बिरजू के जस्ट पीछे वाली झाडी के पीछे बेठा था, अब संतोष चाची की फुली हुई बड़ी बडी फांको वाली बुर साफ नजर आ रही थी, कुछ देर बाद बिरजु ने कहा ले माँ निकल गया तेरा काँटा और फिर संतोष चाची उठ गई और लंगड़ाते लंगडाते चलने लगी।
बिरजु उसके पीछे पीछे जाने लगा और मै चाची की घाघरे में उठि लहराती गाण्ड को देख कर मस्त हो रहा था, यह पहली दफ़ा था जब मैंने चाची की गुदाज
गाँड पर ध्यान दिया था।
चाची के जाने के बाद मै वहाँ से अपने खेतो में आ गया और अपने बाबा के साथ खेत के कामो में हाथ बटाने लगा।
-  - 
Reply
04-30-2019, 12:17 PM,
#3
RE: Indian Porn Kahani मेरे गाँव की नदी
बाबा : कल तो बेटा गीतिका आएगी तू बस स्टैंड जाकर उसे ले आना, मैंने कहा ठीक है बाबा, कुछ देर हमने काम किया उसके बाद दुर से हमें माँ आती हुई दिखाई दी।
मा खाना बना कर हमारे लिए लेकर रोज दोपहर तक आ जाती है, उसके बाद बाबा खाना खा कर फिर से खेती में लग जाता है और मुझे एक दो घंटे अपने खेत की झोपडी में आराम करने को कह देता है, माँ एक दो घंटे काम करती है और फिर वह भी झोपडी में आकर लेट जाती है, शाम को मै और माँ घर आ जाते है और अगले दिन फिर वही खेत किसानी का काम बस हमारी लाइफ ऐसे ही चल रही थी, अभी तक मेरा ध्यान औरतो पर कम ही रहता था लेकिन एक तो संतोष चाची की चुत जबसे मैंने देखा तब से मेरा लंड बहुत परेशान करने लगा था यही वजह थी की आज जब खेत से मै और माँ लौट रहे थे तो अनायास ही मेरी नजर अपनी माँ के बड़े बड़े मटकते गदराए चुतडो पर चलि गई जो की घाघरे में बहुत उछल रहे थे और समा नहीं रहे थे, सच बताऊ माँ को चलते हुए उसके मटकते भारी भरकम चूतडो को देखने पर चलते चलते ही मेरा लंड खड़ा हो गया था।

आज मुझे महसूस हुआ था की मेरी माँ को लोग गांव में क्यों घुरते रहते है और जब वह उनके सामने से अपनी भारी गाँड मटकाते हुए गुज़रती है तब लोग अपने लंड को क्यों मसलने लगते थे।

मा का घाघरा इतना छोटा था की उसके घुटने साफ नजर आते थे और अगर वह बैठती थी तो कई बार
उसकी मोटी मोटी गुदाज जाँघे भी नजर आ जाती थी, उस रात मै ठीक से सोया नहीं मुझे कही चाची की फुली हुई चुत और कभी माँ के लहराते हुए मोटे मोटे चूतड़ नजर आ जाते थे, मै यह भी सोचने लगा था की जब चाची की चुत इतनी फुली और बड़ी नजर आ रही थी तो माँ तो चाची से कई गुणा ज्यादा सुन्दर और तगडे बदन की है फिर उसकी चुत कितनी फुली हुई होगी, मेरे विचार अभी पनपे ही थे जिनमे किसी चिंगारी लगने के बाद उठते धुएं को आग देने का काम मेरी बहन गीतिका ने पूरा कर दिया और मै अपनी चाची माँ और बहन को चोदने के लिए तडपने लगा।

मै बस स्टैंड पर खड़ा शहर से आने वाली बस का इंतजार कर रहा था, तभी बस स्टैंड पर एक किताब बेचने वाला आया और मेरे पास आकर कहने लगा बाबू जी मेहँदी की बच्चो की और गानो की शायरी की बताइये कौन सी बुक लेना पसंद करेंगे, मैंने कहा कहानियो की बुक है, उसने कहा है बाबू जी अकबर बीरबल के चुटकुली, पुराणी दंतक कथाए,

पंचतन्त्र बोलो कौन सी दूँ, मैंने उससे धीरे से कहा चुदाई की कहानियो की किताब है क्या, तब उसने भी धीरे से कहा बाबूजी २० रु की आएगी, मैंने कहा कहानी मस्त है न उसने कहा बाबू जी एक बार पढोगे तो बार बार मुझसे लेकर जाओगे, मैंने उससे वह किताब ले ली और इतने में सामने से बस आ गई और मैंने वह किताब अपनी धोती में कमर पर खोस ली, तभी गीतिका बस से उतरी, मै तो उसे देखता ही रह गया, सच बताऊ गीतिका को ऊपर से निचे तक देखने भर से मेरा लंड खड़ा हो गया था, गीतिका तो बहुत मॉडर्न हो गई थी, उसके खुले हुए बाल होठो पर लिप्स्टीक, एक रेड कलर की टीशर्ट और टाइट जीन्स है क्या लग रही थी,
जब उसने अपनी गुदाज गाण्ड मेरी ओर की तो मै तो उसके जीन्स में न समा सकने वाले चौड़े सी भारी चूतडो को देख कर पागल हो गया और सच पुछो तो मेरे मन में उस समय यह आया की गीतिका की इतनी चौड़ी गाण्ड जीन्स में इतनी मस्त नजर आ रही है तो अगर यह जीन्स मेरी माँ पहने तो उसके चौड़े चूतड़ तो और भी बडे बड़े है जीन्स में माँ की मोटी गाण्ड कैसे नजर आएगी, मै अभी कुछ सोच ही रहा था की मुझे दुसरा झटका तब लगा जब गीतिका, एक दम से भैया कहती हुई मेरे सिने से लग गई मुझे और कुछ एह्सास तो नहीं हुआ पर मेरे सिने से जब उसकी एक झीनी सी टीशर्ट में कसे हुए मोटे मोटे दूध जब दबे तो ऐसा लगा जैसे मेंरा लंड पानी छोड़ देगा।
-  - 
Reply
04-30-2019, 12:17 PM,
#4
RE: Indian Porn Kahani मेरे गाँव की नदी
कल्लु : अरे गुड़िया इतना कह कर मैंने भी उसकी पीठ को और कस कर अपने सिने की ओर दबोचा और उसके मोटे मोटे मस्त दूध के मस्त एह्सास का खूब मजा लिया।
गीतिका अभी भी मुझसे चिपकी हुई थी इसलिए मैंने धीरे से उसकी मस्त गुदाज मोटी गाण्ड पर जीन्स के ऊपर से हाथ फेरा और क्या बताऊ उसके चूतडो के नरम माँस के उठाव ने मुझे पागल कर दिया दिल कर रहा था की अपनी बहन गीतिका के भारी चूतडो और उसके मोटे मोटे दूध को यही खूब कस कस कर दबा डालूं।
कुछ देर बाद गीतिका ने मुझे छोड़ा और कहने लगी अब चलिये भी या यही खड़े रहेगे।

कल्लु : अरे गुड़िया तू तो हर एक दो महिने में बढ़ने लगी है अभी पिछ्ली बार देखा था तो तो काफी छोटी थी और अब एक दम से जवान लड़की के जैसे लगने लगी है,
अगर तू साड़ी पहन कर आती तो मै तो तुझे पहचान ही नहीं पाता।
गीतिका : मुसकुराकर मुझे देखति हुई, भैया मै तो उतनी ही बड़ी हूँ, पर मुझे इस बार ऐसा लग रहा है जैसे आपका अपनी बहन को देखने का नजरिया बदल गया है।तभी तो आपको अपनी बहन बड़ी नजर आ रही है

कल्लु : पता नहीं गुड़िया पर तूने यह कैसे कपडे पहने है भला अपने गांव मै लड़किया ऐसे पेंट शर्ट में कहा रहती है, गांव के लोग कैसी कैसी बाते करने लगते है
गीतिका : मै जानती हु भैया तुम फिकर न करो चलो हम पहले उस सामने वाले काम्प्लेक्स में चलते है वहां मै ड्रेस चेंज कर लेती हु।
कालू : मै अपनी बहन की गुदाज जवानी को देखते हुए कहने लगा, वैसे गुड़िया तू मुझे तो इन कपडो मै अच्छी लग रही है, पर मै सोचता हु गांव घर में कोइ तूझसे कुछ कहे न इसलिए मै कह रहा था।

गीतिका : भैया आप नहीं भी कहते तो भी मै यह ड्रेस चेंज करके गांव जाती क्योंकि मै जानती हु गांव के लोगो को उन्हें बात का बतंगड बनाते देर नहीं लगती है,
पर मुझे यह जान कर अच्छा लगा की आपको मेरी यह ड्रेस अछि लगी है
कालू : अरे पगली तेरी ड्रेस तो ठीक है तू तो कुछ भी पहन लेगी तो अच्छी लगेगी, आखिर मेरी गुड़िया परी है जो इतनी खुबसुरत।
गीतिका : मुस्कुराते हुए चलिये अब इतना भी झूठ मत बोलिये।
कालू : नहीं गुड़िया मै सच कह रहा ह, मैंने तुझसे सुन्दर लड़की आज तक नहीं देखी।
गीतिका : अरे क्या भैया, आप कभी शहर में नहीं रहे हो न इसलिए ऐसी बाते करते हो कभी शहर की लड़कियो को देखते तो पागल हो जाते।

कल्लु : क्यों शहर में तुझसे भी सुन्दर लड़कियाँ रहती है।
गीतिका : लड़किया तो ठीक है भैया पर उनकी ड्रेस जब आप देख लोगे तो आपका तो बस।।।।।।।।।।यह कह कर गीतिका जोर जोर से हॅसने लगी।
कालू : क्या गोल मोल बाते कर रही है, साफ साफ बता ना।
गीतिका : मंद मंद मुस्कुराते हुये, बाद मै बताऊँगी अब चलो भी, उसके बाद गीतिका ने काम्प्लेक्स में जाकर कपडे बदले और अब वह एक येलो सलवार कमीज मे नजर आ रही थी।
-  - 
Reply
04-30-2019, 12:17 PM,
#5
RE: Indian Porn Kahani मेरे गाँव की नदी
गीतिका : मुस्कुराते हुये, अब कैसी लग रही हु भैया,
कालू : अच्छी लग रही हो।
गीतिका : अच्छा भैया मै आपको पहले ज्यादा अच्छी लग रही थी या अब।
कालू : मुस्कुराते हुए सच कहु तो तू जीन्स और टॉप में मुझे ज्यादा सुन्दर लग रही थी।
गीतिका : मै जानती हु भैया और गीतिका फिर मुस्कुराने लगी, कुछ भी कहो गीतिका इस बार और बार की अपेक्षा कुछ बदली हुई लग रही थी।
गीतिका : भैया अब तो यह खटारा साइकिल बेच दो और कोई बाइक का जुगाड़ करो।

कल्लु : अरे वह तो ठीक है पर यहाँ गाड़ी चलाना आती किसे है।
गीतिका : वह तो मै आपको सीखा दूंगी।

मैने साईकल के पीछे गुड़िया का बैग बांध दिया और फिर साईकल पर चढ़ कर उसे साईकल का डंडा दिखाते हुए कहा, आजा गुड़िया डण्डे पर बैठ जा
गीतिका मेरी बात सुन कर खिलखिला कर हँस पड़ी इस बार तो मै भी उसकी हँसी का मतलब समझ गया था, गीतिका का चेहरा कुछ लाल हो रहा था और वह साईकल के आंगे के डण्डे पर बैठ गई जब वह बेठी तो उसके मोटे मोटे चूतडो से मेरा लंड जो की खड़ा हो गया था टकराने लगा और मै एक दम से सिहर गया,
उपर से गीतिका के बदन से बहुत ही मस्त खुशबु आ रही थी, मै धीरे धीरे साइकिल चलाने लगा और गुड़िया से बात करने लगा।

कल्लु : गुड़िया इस बार कितने दिनों की छुट्टी पर आई है
गीतिका : भैया ८-१० दिन तो रहुँगी।
कालू : तेरी पढाई का क्या पुछु वह तो अच्छी ही चल रही होगी, आखिर तू इतनी होशियार तो है।
गीतिका : आखिर बहन किसकी हूँ।
कालू : अरे इसमें तेरे भैया का क्या बड़प्पन हुआ यह तो सब तेरी मेहनत का नतीजा है, पर यह तो मर्दो जैसे कपडे कब से पहनने लगी, क्या वह सब ऐसे ही कपडे
पहनती है।
गीतिका : भैया आज कल ऐसा ही जमाना है, सब या तो मिनी स्कर्ट या फिर जीन्स पहनती है।
कालू : मिनी स्कर्ट मतलब।
गीतिका : भैया जो स्कर्ट घटनो से भी ऊपर रहती है। उसे मिनी स्कर्ट कहते है।
कालू : तो क्या बड़ी उम्र की औरते भी जीन्स या वह मिनी स्कर्ट पहनती है।
गीतिका : हाँ भैया तुम देख लो तो कहोगे की कैसे यह औरते अपने भारी शरीर पर जीन्स पहन कर निकलती है।
-  - 
Reply
04-30-2019, 12:17 PM,
#6
RE: Indian Porn Kahani मेरे गाँव की नदी
कल्लु : क्या हमारी माँ जैसी औरते भी जीन्स या स्कर्ट पहनती है।
गीतिका : हाँ भइया, आज कल सब औरते ऐसे ही कपडे पहनती है।
कालू : तो गुड़िया उन्हें शर्म नहीं आती होगी, ऐसे कपडो में तो बड़ी उम्र की औरते न जाने कैसी दिखती होगी।
गीतिका : क्यों मै जीन्स में आपको अच्छी नहीं लग रही थी।
कालू : नहीं तू तो बहुत अच्छी लग रही थी।
गीतिका : तो फिर अब यह बताओ अगर वह जीन्स माँ पहनेगी तो क्या अच्छी नहीं लगेगी।

कल्लु : पता नही।
गीतिका : पता नहीं क्या अगर तुम माँ को जीन्स और टीशर्ट में देख लो तो तुम तो उन पर मर मिटोगे।
कालू : मतलब।
गीतिका : ओह भैया आप भी न बहुत भोले हो यही नुकसान है गांव में रहने के, अरे बाबा माँ जब यह कपडे पहनेगी तो बहुत सेक्सी नजर आएगी।
अच्छे अच्छे पागल हो जाएगे उन्हें देख कर।
कालू : ये सेक्सी का क्या मतलब होता है गुडिया, मै जानता था लेकिन गीतिका मुझे कुछ ज्यादा ही भोला समझती थी लेकिन वह यह नहीं जानती थी की मेरा भी
एक दोस्त है गोपी जो शहर में रहता था और
वह मुझे नई नई बाते बताता रहता था, सेक्स की बाते भी उसने मुझे बताइ थी इसलिए मुझे उसका मतलब पता था, मै यह तो समझ गया था की गीतिका
जितनी दिखाई दे रही है वह उससे कही ज्यादा सेक्सी है पर इस बार उसमे कुछ ज्यादा ही बदलाव दिखाई दे रहा था।

गीतिका : मुस्कुराते हुये, भैया अब मै आपको सेक्स का मतलब कैसे बताऊ।
कालू : अरे बोलने वाली चीज न हो तो कर के दिखा दे मै समझ जाऊँगा
मेरी बात सुन कर गीतिका ठहाके लगा कर हॅसने लगी और कहने लगी भैया आप बहुत बुद्दू हो, आपको तो सच में कुछ भी नहीं पता, अगर यह बात
आप शहर में मेरे दोस्तों के सामने बोलते तो लोग आपका मजाक उड़ा उड़ा कर इतना हँसते की उनका पेट् दुखने लगता।
कालू : अरे हमने ऐसा क्या कह दिया, हमको अब उसका मतलब पता नहीं है तो हम क्या करे।
-  - 
Reply
04-30-2019, 12:17 PM,
#7
RE: Indian Porn Kahani मेरे गाँव की नदी
गीतिका : सच भैया आप भी ना।
कालू : अब हँसती ही रहोगी या हमें उसका मतलब भी बतायेगी।
गीतिका : हस्ते हुए भैया मै आपको बाद में उसका मतलब बताऊँगी, मै पगडण्डी से होता हुआ गांव के रास्ते पर पहुच गया। वहाँ आम का बगीचा था और पके हुए आम नजर आ रहे थे, तभी गीतिका ने इशारा करते हुए कहा भैया वो देखो कितना मस्त पका हुआ आम है प्लीज उसे तोड़ो ना।

कल्लु : मैंने साईकल रोकी और फिर गीतिका अपने भारी चूतडो को डण्डे से हटा कर उतर गई, मैंने साईकल खड़ी कर दी और उचक कर उस पके आम को तोड़ने लगा लेकिन वह मेरे हाथ से थोड़ा ऊपर था, मै बार बार ऊपर उचक कर उस आम को तोड़ने की कोशिश कर रहा था लेकिन वह मेरे हाथ से टच होकर रह जाता था।
तभी गुड़िया ने कहा भैया ऐसे नहीं टूटेगा आप एक काम करो मुझे अपनी गोद में उठाओ मै तोड़ती ह, मैंने गीतिका की बात सुन कर उसे अपनी गोद में उठाया, गुड़िया की सलवार इतनी पतले कपडे की थी की मुझे तो ऐसा लगा जैसे मै गुड़िया को नंगी करके उठा रहा हूँ।

मैने गुड़िया की मोटी जांघो पर दोनों हाथो का
घेरा डाल कर उसे ऊपर उठाया, गुड़िया काफी हेल्दी हो गई थी 55 के जी के लगभग वजन होगा मेरे हाथ उसकी जांघो से गुजरते हुए जब गुड़िया के भारी चूतडो
पर पहुचे तो गुड़िया की जांघो और भारी चूतडो के गर्म मांस के एह्सास ने मुझे पागल कर दिया था मै गुड़िया को उठाये हुए उसके मोटे मोटे चूतडो को खूब कस कर दबोचे हुए था और मेरे लंड महराज धोती में टनटना चुके थे, मै गुड़िया के चूतडो को दबाये ऊपर देखने लगा तभी गुड़िया ने मुझे हँसते हुए देखा उसके हाथ में पका हुआ आम था और वह कहने लगी अब उतारो भी आम तो मैंने तोड़ लिया, मैंने धीरे से गुड़िया को छोडना चालु किया।
आउर गुड़िया मेरे बदन से रगड ख़ाति हुई निचे आई और मेरा लैंड गीतिका के चुत वाले हिस्से से रगड खाता गया, गुड़िया ने आम की ख़ुश्बू लेते हुए कह
वाह भैया क्या मस्त पका है।

गीतिका : आओ न भैया थोड़ी देर इस आम की छाया में बेठते है फिर चलते है, मै वही बैठ गया और गीतिका भी बैठ गई और आम के ऊपर के हिस्से को अपने
दान्तो से थोड़ा सा काट कर उसने आम को दबाया और उसका रस चुसते हुए कहने लगी।
-  - 
Reply
04-30-2019, 12:17 PM,
#8
RE: Indian Porn Kahani मेरे गाँव की नदी
गीतिका : वह भैया कितना रसीला और मीठा आम है, मेरी नजर गीतिका के रसीले होठो पर चलि गई और मै उसके रस भरे होठो को हसरत भरी निगाहॉ
से देखने लगा।
गीतिका : लो भैया तुम भी चुसो बड़ा मस्त टेस्ट है इसका।
मै आम चुसना तो नहीं चाहता था लेकिन गीतिका के रसिले होठो और उसकी गुलाबी जीभ को देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया और मैंने सोचा गीतिका का
जूठा आम चुसने का मेरा मन हो गया और मैंने भी गीतिका से आम लेकर चुसने लगा, गीतिका ने कहा भैया चीटिंग नहीं एक बार आप चुसो एक बार मैं।
बस फिर बारी बारी से गुड़िया और मै आम को चुसने लगे।
गीतिका : भैया गांव का माहौल बड़ा अच्छा लगता है यहाँ कितनी शांति है ऐसे में तो कोई कुछ भी करे कोई देखने वाला नहीं है।
कालू : मतलब।
गीतिका : मुस्कुराते हुये, मतलब की मुझे और आम चुसना है और तोड़ो न भैया और फिर गीतिका खड़ी होकर इधर उधर देखने लगी और फिर उसने उछलते
हये एक आम दिखाया और उसे तोड़ने के लिए कहने लगी।

वाह आम भी ऊँचाई पर था और गीतिका ने मेरी ओर देखा और बड़ी स्टाइल में अपने हाथ ऊपर कर दिए की आओ और मुझे गोदी में उठाओ, मेरा लंड तो खड़ा ही था।
इस बार गुड़िया को मैंने पीछे से उठाया, लेकिन आम थोड़ा ऊपर था तब गुड़िया कहने लगी भैया थोड़ा और ऊपर उठाओ न, आप भी न इतने बालिश्त शरीर है आपका और आप अपनी कमसीन और नाजुक बहन को अपनी गोद में नहीं उठा पा रहे है।
-  - 
Reply
04-30-2019, 12:18 PM,
#9
RE: Indian Porn Kahani मेरे गाँव की नदी
मेरा इतना सुनना था की मैंने गुड़िया को ऊपर किया इस बार गुड़िया की मोटी गाँड बिलकुल मेरे मुह पर दबी थी और मै अपने मुह से गुड़िया के भारी चूतडो को महसूस कर रहा था, इतने में गुड़िया ने कहा भैया बस थोड़ा और उपर, गुडिया का इतना कहना था की मैंने गुड़िया की गाण्ड में हाथ भर कर उसे और ऊपर उठा दिया, मेरा लंड झटके मारने लगा मेरा हाथ गुड़िया की मस्त उभरी हुई चूत और गाण्ड की जडो में फसा हुआ था।

उसकी भरी गदराई जवानी ऐसी थी मनो मैंने किसी बड़ी औरत को ऊपर उठा रखा हो, कुल मिला कर यह था की गीतिका एक मस्त पका हुआ माल हो चुकी थी जिसे अब चुसना बहुत जरुरी हो गया था, मैंने गीतिका के चूतडो और चुत को इस दौरान अपने हाथो से दबा कर देख लिया था, तभी गीतिका ने आम तोड़ लिया और मैं उसे धीरे से निचे उतारने लगा लेकिन वह एक दम से निचे सरक गई और मेरे दोनों हाथो में गुड़िया के सुडौल खूब मोटे मोटे और कसे हुये
मस्त दूध दब गए और तब मुझे एह्सास हुआ की गीतिका के मस्त बड़े बड़े आम खूब मोटे मोटे और खूब कसे हुए है जब मेरा हाथ अपनी बहन के पके
आमो पर पड़ा तो मुझे एक अजीब सा आननद आया और गीतिका मजे से आम चुसने लगी।

वह बीच बीच में मुझे भी आम चुस्ने को दे देति थी।
कुछ देर हम वही आम खाते रहे और फिर गुड़िया को मैंने साईकल पर बैठा लिया और गांव की ओर चल दिया।

हम जब घर पहुचे तो गुड़िया माँ से लिपट गई और फिर मै वहाँ से खेतो में चला गया कुछ देर बाबा के साथ काम किया।
उसके बाद मैं झोपड़ी में चला गया और बाबा खेतो में काम में लगे रहे वहाँ जाकर मैंने अपनी धोती से किताब निकाल कर पढना शुरू किया।
जब मैंने पहली कहानी पढ़ी तो पहली कहानी ही अपनी सगी बहन को चोदने की थी जिसे पढ़ कर मै मस्त हो रहा था, लेकिन किताबे तो मै बहुत बार पढ चूका था पर इस बार मुझे बार बार गुड़िया ही याद आ रही थी गुड़िया की गदराई जवानी रह रह कर मेरे लंड को खड़ा कर रही थी।
कहानी पढने के बाद मै थोड़ी देर लेट गया
शाम को घर पर जब मै पंहुचा अभी मै दरवाजे के बाहर ही था दरवाजे से एक रास्ता घर के अंदर और दुसरा पास के बाथरूम में जाता था।
बाथरूम ऐसा था की उसमे दरवाजा नहीं था और वह तीन तरफ लकड़ी के पटिये लगा कर बनाया गया था।

निर्माला : अरे गीतिका जल्दी नहा ले खाना बन गया है।
गीतिका : बस माँ आती हूँ।
-  - 
Reply

04-30-2019, 12:18 PM,
#10
RE: Indian Porn Kahani मेरे गाँव की नदी
मै समझ गया की गुड़िया बाथरूम में नहा रही है, मेरे मन में गीतिका को नंगी देखने का ख़याल आ गया, जबकि इससे पहले भी उस बाथरूम में माँ या गीतिका
नहाती रही है पर पहले ऐसा ख़याल नहीं आया, मै धीरे से बाथरूम के पीछे की तरफ चला गया और जैसे ही मैंने लकड़ी के गैप से झाँका ।
क्या बताऊ सीधे मेरी आँखों के सामने गुडिया के मोटे मोटे गोरे गोरे चूतड़ थे और क्या उठे हुए और क्या मस्त गांड थी उसकी गाण्ड की दरार में मेरा लंड तो पूरी तबियत से खड़ा हो गया।
मैने अपने लंड को धोती से बाहर निकाल कर मसलते हुए गीतिका को देखना शुरू किया गीतिका जब भी थोड़ा झुकती तो उसकी फुली चुत की फाँके पीछे से नजर आ जाती और मेरा लंड उसकी फांको
को और फाडने के लिये मचलने लगता था तभी गीतिका मेरी और मुह करके घुम गई और जब मैंने उसके मस्त बड़े बड़े कलमी आमो को देखा तो ऐसा लगा की यह कठोर आम मुझे निचोडने के लिए मिल जाये तो मजा आ जाए, फिर गुड़िया जल्दी जल्दी अपने नंगे बदन पर पानी ड़ालने लगी, उसकी चुत के ऊपर हलके हलके बाल नजर आ रहे थे और चुत का उभार मुझे बहुत उत्तेजित कर रहा था।



कुछ देर में गीतिका ने एक लाल रंग की पेंटी पहन ली और ऊपर उसने ब्रा नहीं पहनी बल्कि एक ब्लू कलर की टी शर्ट पहन लिया और निचे एक टाइट लेगी पहन ली।
उसकी मोटी मोटी जाँघे लेगी में बड़ी मुश्किल से समां रही थी और उसके चुतड़ तो लेगी में और भी चोदने लायक नजर आ रहे थे, गीतिका ने अपनी उत्तरी हुई ब्रा और पेंटी वही छोड़ कर बाथरूम से बाहर आई और घर के अंदर घुस गई।
मै कुछ देर बाद घर के अंदर गया तब माँ खाना बना रही थी और गीतिका बैठ कर खा रही थी, मुझे देखते ही माँ ने कहा कल्लु आजा तू भी हाथ मुह धो कर खा ले।

मैने भी खाना खा लिया उसके बाद बाबा आ गए और माँ उन्हें खाना देने लगी ।
गर्मी ज्यादा थी मै बहार खटिया डाल कर लेता हुआ था और गीतिका माँ और बाबा के पास बेठी थी, मै आँखे बंद किये लेटा था तभी पायल की आवाज सुनाइ दी छन छन छ्न छ्न।
मैंने धीरे से आँखे खोल कर देखा। माँ बाथरूम की तरफ जा रही थी।
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Antarvasna kahani नजर का खोट sexstories 121 509,910 08-26-2020, 04:55 PM
Last Post: SANJAYKUMAR
Thumbs Up Antarvasna कामूकता की इंतेहा desiaks 49 12,851 08-25-2020, 01:14 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Sex kahani मासूमियत का अंत desiaks 12 6,380 08-25-2020, 01:04 PM
Last Post: desiaks
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार sexstories 103 384,190 08-25-2020, 07:50 AM
Last Post: Sad boy
  Naukar Se Chudai नौकर से चुदाई sexstories 28 251,081 08-25-2020, 03:22 AM
Last Post: nishanisha.2007
Star Antervasna कविता भार्गव की अजीब दास्ताँ desiaks 18 9,792 08-21-2020, 02:18 PM
Last Post: desiaks
Star Bahan Sex Story प्यारी बहना की चुदास desiaks 26 16,364 08-21-2020, 01:37 PM
Last Post: desiaks
  Behen ki Chudai मेरी बहन-मेरी पत्नी sexstories 20 243,449 08-16-2020, 03:19 PM
Last Post: singhisking
Star Raj Sharma Stories जलती चट्टान desiaks 72 37,877 08-13-2020, 01:29 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा sexstories 87 592,287 08-12-2020, 12:49 AM
Last Post: desiaks



Users browsing this thread: 7 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


shraddha kapoor nude giftamil tv actress nude photosबस एक बार अपना लण्ड निकाल दो मेरे सामने. लाओ जरा मैं देखूं तोdiya mirza nude picsasin tamil sex storyभाभी मुझे वहाँ पर दर्द हो रहा था, तभी वो बोली कि दिखाओ तो मुझेthamanna pussyavika gor sexshilpa nakedpoonam bajwa nude photosindian actress assdiya mirza nude picscheck bhabhi behan nangi picangoori bhabhi nudesex baba storiesmobile sex storiesanushka sharma sex storiesbharti singh nudeanupama parameswaran nudeaishwarya rai fucking photosmarathi muli and marathi chawat kathaxxx stilskajol nude sexholi mai chudaisonakshi sinha ki nangi sexy photobhabhi pussy photoindian tv actress nude pictmkoc pornमेरी लुल्ली से खेलshilpa shetty nude sexrachana banerjee nudeमेरी लुल्ली से खेलkannadasexstoryholi sex stories in hindimanjari fadnis nudeमेरा मन तो कर रहा था, कि उसके कड़क लंड कोgopika nudexossip zindagi ek sangharshभाभी बोली- तुम तो बहुत प्यारे होबोली- क्या इसी से कल रात को सफ़ेद सफ़ेद निकला थाsouth actress fakeslong hindi sex storyevelyn sharma boobsmarathi suhagrat storystar plus nudeपता नहीं कब मेरी प्यास ठंडी होगीmishti chakraborty nudesexbabadost ki maa ki chudai ki kahaniraj sharma ki kamukchoot hi chootreal chudai storyvedhika nuderandi bahangharelu chudai samarohtelugu ranku mogudu kathaluhindi sex stories threadsभाभी , क्या मैं आपके पास लेट जाऊंkriti sanon sex babamarathi muli and marathi chawat kathaalia bhatt sex picturedesisex storybipasha basu sex storysexstorynandita das nudejayaprada nakedactress nude assdesisex storyhindi sex pagenude rasitv serial actress sexantarvasna 1मेरा तन भी छेड़-छाड़ पाने से गुदगुदा रहा थाsex baba.comnargis fakhri nude picskareena kapoor nude fakessita nudekamuk kathaganne ki mithassonakshi sinha ki nangi sexy photosex hindi imagewww.hindi sex.comtamanna nude photos commarathi incest storiesdivyanka tripathi sex storyvidya balan nude picturesआईची झवाझवीamala paul sex storieskavita nudesridivya xxxsruthi hasan nude photosraveena ki nangi photokareenakapoornudeअपनी रसीली आम जैसी दिखने वाली छातियो को