बाप बेटी की कहानी - पापा की हेल्पिंग बेटी
07-14-2017, 01:23 PM,
#1
बाप बेटी की कहानी - पापा की हेल्पिंग बेटी
पापा की हेल्पिंग बेटी--1

हेलो दोस्तो आपका दोस्त राज शर्मा एक ओर नई कहानी लेकेर आपके सामने हाजिर है .

कहानी सुनाने से पहले मैं थोरा सा बॅकग्राउंड आप सब को बता दून.ये कहानी बाप ओर बेटी की चुदाई

की कहानी है . अब आप कहानी को उस लड़की की ज़ुबानी ही सुने तो ज़्यादा अच्छा ओर ज़्यादा मज़ा आएगा

मेरी मदर की 3 साल पहले ट्रॅफिक एक्सीडेंट मैं डेत हो गई थी. उस वक़्त मैं कोई 12 साल की थी और अपने पापा की अकेली बेटी थी. हम लोग काफ़ी साल पहले हयदेराबाद से रावलपिंडी शिफ्ट हो गये थे. यहाँ पिंडी मैं सिवाइ हमारे एक दो फॅमिली फ्रेंड्स के और कोई रिश्तेदार ना था. बस हम तीनो अकेले रहते थे. मम्मी की डेत के बाद हम सिर्फ़ 2 रह गये थे.

घर के एक कमरे मैं जोकि बाहर कमर्षियल स्ट्रीट की तरफ खुलता था, पापा ने बोहट अछा जनरल स्ट्रोरे खोला हुआ था जिस से हमारी बहुत अछी इनकम होती थी. मम्मी के जाने के बाद मुझे भी तन्हाई महसूस नही होती थी. सुबा मैं स्कूल चली जाती. काम वाली सुबा घर की सफाई वगेरा कर के खाना तय्यार कर के चली जाती. स्कूल से वापसी पेर हम दोनो बाप बेटी साथ खाना खाते. मम्मी की कमी बहुत महसूस होती थी. इसी तरह एक साल गुज़र गया. और मुझे यह कभी भी एहसास ना हुआ के अगर मुहज़े मम्मी की कमी महसूस होती है तो पापा का क्या हाल होता होगा. मैं जवानी की हदों को छू रही थी. मेरी छातियाँ अछी ख़ासी निकल आई थी. अक्सर मेरी चूत मैं भी मीठी मीठी खारिश होती थी. मगर ना मैं इन सब चीज़ों का मतलब जान सकी और ना ये महसूस कर सकी कि पापा मम्मी के बाद सेक्स को कितना मिस करते होंगे.

फिर एक रात वो हुआ जिसने हम दोनो बाप बेटी की ज़िंदगी बदल दी.

जुलाइ की रात थी. बहुत शेडेड गर्मी के बाद बहुत तेज़ बेरिश हो रही थी. बादल बहुत ज़ोर ज़ोर से गरज रहे थे. मैं अपने कमरे मैं सहमी हुई सोने की कोशिश कर रही थी, मगर डर के मारे नींद नही आ रही थी. अचानक जो एक दफ़ा बदल बहुत ज़ोर से गर्जे तो मेरी चीख निकल गई और मैं बेड से उठ कर पापा के बेडरूम की तरफ भागी.

जल्दी से मैने पापा के बेडरूम का दरवाज़ा खोला और पापा के बेड के बिल्कुल सामने जा खरी हुई. सूब कुछ इतना जल्दी मैं हुआ के मैं बेडरूम का दरवाज़ा खोलते हुआी यह भी ना देख सकी के मेरे पियारे पापा उस वक़्त अपने बेड पेर बिल्कुल नंगे हो कर अपने तने हुए सख़्त लंड को अपनी मुथि मैं पकरे, मुथि को लंड पेर ऊपर नीचे कर रहे थे. मैं ने ज़िंदगी मैं पहली बार लंड को इतना बरा (बिग) देखा था. पापा को भी मोक़ा ना मिल सका के वो अपने जिस्म पेर शीट डाल लेते. उनका मुँह खुला का खुला रह गया.

मेरे भी मुँह से सिवाए इसके और कुछ ना निकल सका "सॉरी पापा, मैं डर गई थी, इस लिये जिलदी मैं डोर पेर नॉक नही कर सकी".

पापा ने इतनी देर मैं अपने ऊपेर शीट डाल ली और घबरा कर उठ कर बेड पेर बैठ गाए, और बोले: "सॉरी बेटा के तुम ने मुझे इस"तरह देख लिया

आ जाओ और यहाँ मेरे पास बैठ जाओ. जब बारिश रुक जाए तो चली जाना अपने बेडरूम मैं".

"मगर पापा ..... आप डिस्टर्ब होंगे. आप कुत्छ कर रहे थे अभी?"

लेकिन पापा ने जवाब देने की बजाए मुझे हाथ पकड़ कर अपने साथ बेड पर बिठा लिया.

"पापा आप ने कुत्छ नही पहना ... मुझे शरम आती है." यह कहते हुए मुझे खुद अपने बारे मैं एहसास हुआ के मैं ने भी गर्मी की वजह से सिर्फ़ एक थी सी, सी-थ्रू क़िसम की टी-शर्ट और शॉर्ट्स पहनी हुई थी. ब्रा भी नही पहनी थी, इस लिये मेरा जिस्म भी बिल्कुल रिवील हो रहा था. टी-शर्ट भागते हुए ऊपेर हो गई ही, जिस की वजह से मेरा पेट और मेरे टिट्स साफ नज़र आ रहे थे.

एक तरफ पापा को मैं नंगा अपना लंड पकड़े देख चुकी थी, और अब वो शीट डाले बैठे थे के पीछे से उनकी कमर नीचे तक नंगी थी. और दूसरी तरफ मैं भी सेमी-नेकेड उनके ब्राबार बैठी हुई थी. मेरी साँस फूल रही थी.

मुझे उस रात पापा के बराबर बैठ कर पहली दफ़ा एहसास हुआ के मेरा जिस्म बहुत सेक्सी है. मेरे बूब्स मेरी 13 साल की एज के मुक़ाबले मैं ज़ियादा बिग और राउंड हैं और सामने को निकले हुए हैं. मेरे हिप्स बहुत राउंड, हार्ड और बल्जिंग हैं. मेरा जिस्म भरा भरा लगता है.

अचानक बारिश का शोर और ज़ियादा हो गया और साथ ही बदल एक बार फिर बहुत ज़ोर से गर्जे के मैं डर के मारे एक दम पापा से लिपट गई. इस तरह लिपटने से पापा की शीट हट गई, और पापा फिर से नंगे हो गाए. मैं कोई 10 सेकेंड यूँही लिपटी रही, टब मुझे पता चला के मैं अपने पापा के नंगे जिसम से लिपटी हुई हूँ.

मैं ने घबरा कर पापा से अलग हो ने की कोशिश की तो पापा ने मेरी कमर मैं अपना हाथ डाल कर मुझे मज़बूती से अपने नंगे जिसम के साथ जाकड़ लिया.

"जानू ऐसे ही बैठी रहो"

मैं कुत्छ ना जवाब दे सकी. मैं पापा के लेफ्ट साइड से लिपटी हुई थी. मेरा सर पापा के सीने पर था. शीट हट जाने की वजह से पापा का खरा हुआ लंड मेरे फेस से एक फीट के फ़ासले पर था. पापा ने एक बार फिर अपने लंड को राइट हॅंड की मुथि मे जाकड़ लिया और हाथ को लंड पर आहिस्ता आहिस्ता ऊपेर नीचे करने लगे.

"पापा यह आप किया कर रहें हैं?"

"आज तुम्हारी मम्मी की बोहत याद आ रही हे" पापा ने जवाब दिया.

"छी पापा, जुब मम्मी की याद आती हे तो आप ऐसे करते हैं?"

"बेटा, वो तुम्हारी मा थी, लेकिन मेरी बीवी थी, और मियाँ बीवी का रिश्ता और तरह का होता हे".

"मैं समझी नही पापा!"

"बेटी क्या तुम्हे नही पता मियाँ बीवी का क्या जिन्सी रिश्ता होता हे?" पापा ने पूछा

"नही पापा, आप बताएँ"

"अब मैं कैसे तुम्हें बताऊं के मियाँ बीवी मैं सेक्स का रिश्ता होता. और इसी रिश्ते की वजह से तुम पैदा हुईं और आज तुम मेरे साथ इस तरह बैठी हो"

"वो कैसे पापा?" मेरी समझ मैं अब भी नहीं आ रहा था.

"शादी के बाद मियाँ अपनी बीवी के साथ सेक्स करता हे, यानी अपनी बीवी तो इस लंड से उसकी चूत को चोद्ता है. चोदते हुए जुब लंड से मनी चूत मैं निकलती है तो फिर 9 मंथ बाद बच्चा पैदा होता हे".

लंड और चूत का नाम तो मैं ने कहीं सुन रखा था, मगर "चोद्ता" मैं ने पहली बार सुना था.

"पापा यह "चोदता" क्या होता हे?"

पापा की साँस आहिस्ता आहिस्ता फूल रही थी. शिवरिंग सी आवाज़ मैं वो बोले.

"अब इस से आगे मैं जो तुम्हे बताऊँगा तो उसके लिये तुम्हे भी मेरी तरह कपड़े उतार कर नंगी होना परे गा. क्या तुम तय्यार हो."

मैं पापा की बात सुन कर बुरी तरह शर्मा गई और उनकी ग्रिफ्त से निकालने की कोशिश करने लगी.

लेकिन पापा ने ज़बरदस्ती मेरी शॉर्ट्स और टी-शर्ट उतार दी और हम दोनो बाप बेटी बिल्कुल नंगा होगाए.
-  - 
Reply

07-14-2017, 01:23 PM,
#2
RE: बाप बेटी की कहानी - पापा की हेल्पिंग बेटी
अब पापा ने मेरा राइट हॅंड पकड़ कर अपना लंड मेरे हाथ मैं पकड़ा दिया, और साथ ही मेरी चिकनी और हेरलेस चूत पर उंगली फेरते हुए बोले.

"यह तुम ने मेरा लंड पकड़ा हुआ है और मैं तुम्हारी चूत पर उंगली फेर रहा हूँ. तुम्हे प्यार करते हुए अगर मैं अपने इस लंड को अपनी बेटी की चूत मैं डाल कर अपने लंड को तुम्हारी चूत मैं अंदर बाहर करूँ गा तो इसका मतलूब होगा के मैं तुम्हे चोद रहा हूँ, या तुम मुझ से चुदवा रही हो, और या मैं तुम्हे चोद्ता हूँ"

मेरी चूत पर पापा की उंगली लगते ही मेरी चूत मैं करेंट सा दौर गया. पापा ने जब मेरी चूत के दाने को उंगली से छेड़ा तो मैं ने बुरी तरह से मचल कर पापा के हाथ को अपनी रानो के दरमियाँ भींच लिया. इस के साथ ही मैं ने पापा के लंड को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगी. पापा का लंड मेरी मुठ्ठी मैं किसी ज़िंदा मखलूक़ की तरह मचल रहा था. मुझे अब एहसास हो रहा था के सेक्स क्या होता हे.

"पापा लंड मेरी चूत मैं डाल कर मुझे चोद के दिखाएँ" मैं ने पापा से कहा.

"जानू तुम अभी कुँवारी हो, और मेरी सग़ी बेटी हो. पहली बात तो हमे ऐसा नहीं करना चाहिये. लेकिन एक साल से मेरा लंड किसी चूत को चोदने के लिये तड़प रहा हे. बाहर जा कर मैं रंडी को नही चोदना चाहता. अगर तुम्हारी मर्ज़ी हो तो फिर मैं अपनी बेटी को चोद कर दिखा सकता हूँ"

"पापा मैं अभी सिर्फ़ 13 साल की हूँ, लेकिन अभी अभी आप के मेरी चूत को हाथ लगाने से जो मेरी हालत हो रही है, तो मैं आप की हालत भी समझ सकती हूँ .. ... पापा चोद के दिखाएँ मुझे, ता के मुझे भी पता चले के आप मेरी मम्मी को कैसे चोद्ते थे ... और पापा मेरी शकल सूरत भी चूँके मम्मी से बोहत मिलती है, इस लिये आप को चोद्ते हुए लगे गा के आप अपनी बीवी को चोद रहें हैं..."

"उफ़ जानू ... मेरी प्यारी बेटी ... तूने तो मेरी मुश्किल आसान करदी ...", यह कहते हुए पापा ने एक दम से उठा कर मुझे अपनी गौद मैं बिठा लिया. पापा का लंड मेरी रानो के बीच मैं से बाहर को निकल कर मेरे पेट से टच कर रहा था. पापा के लंड के मुँह से चिकना चिकना लेसडार पानी निकल कर मेरे पेट पर लग रहा था.

पापा ने मुझे अपने से लिपटा कर खूब मेरे मुँह पर, मेरे होंठो पर प्यार करना शुरू किया. मेरी दोनो छातियाँ पापा ने अपने हाथों मे पकड़ कर मसलनी शुरू करदी.

मेरे पूरे जिस्म मे जैसे आग सी लग गई. मैं भी बे-इकतियार हो कर अपने पापा को उसी तरह चूमने चाटने लगी. मेरे मुँह से सिसकारियाँ निकल रहीं थी. मेरा पूरा जिस्म शिद्दत-ए-जज़्बात से काँप रहा था. पापा ने प्यार करते करते मुझे बेड पर लिटा दिया और खुद अपना लंड हाथ मैं ले कर मेरे मुँह के ऊपेर आ गाए, और लंड की टोपी को मेरे होंठो से लगाते हुए बोले: "शहला, मेरी प्यारी सी बेटी, अपने पापा का लंड चूसो मुँह मैं ले कर. पापा के लंड से मनी निकालने वाली है, फिर इसके बाद मैं अपनी बेटी को चोदुन गा".

"पापा यह मनी क्या होती हे?"

"अभी जब तुम्हारे मुँह मैं निकले गी तो देख लेना. यह वाइट क्रीम या मलाई की तरह होती हे, और बोहट गरम और मज़ेदार होती हे. लो अब चूसो पापा का लंड."

मैं ने मुँह पूरा खोल दिया, और पापा ने अपना हड्डी की तरह सख़्त लंड मेरे मुँह मैं डाल दिया. मैं लंड मुँह मैं ले कर लंड को अपने लिप्स से दबा लिया, और पापा होले होले मेरे मुँह को चोदने लगे.

"उफ़ शहला .... जानू .... मज़ा आरहा है .... चोद रहा हूँ अपनी बेटी शहला के मुँह को. उफ़ ... .... निकलने वाली है पापा के लंड से मनी...."

और इसके बाद चंद ही लम्हे मैं पापा के लंड से एक तेज़ पिट्‍चकारी मेरी मुँह के अंदर निकली, और उसके बाद तो जैसे पिचकारियो की लाइन लग गई. मेरा मुँह पापा की गरम गरम मनी से भर गया. पापा की मनी मुँह से बाहर ना निकल जाइ, इस ख़याल से मैं काफ़ी मनी पी गई.

पापा घहरी घहरी साँसे ले रहे थे और उनका लॉरा मेरे मुँह मैं ढीला परता जा रहा था.

पापा ने आख़िर अपना लंड मेरे मुँह से बाहर निकाल लिया. मुझे पापा का लंड देख कर हँसी आ गई के वो अब बिकुल सुकर कर लुल्ली बन गया था. हंस ने की वजह से पापा की बाक़ी मनी मेरे मुँह से बाहर निकल कर मेरी छातियों पर बहने लगी.

गाढ़ी गाढ़ी, सुफैद क्रीम जैसी लेसडार मनी. मनी मैं से एक अजीब सी खट्टी मीठी खुश्बू उठ रही थी (जैसे आटा गूंधने के बाद आती हे).

"देखी अपने पापा की मनी? ऐसी होती है मनी. यह मनी जब लर्की या औरत की चूत के अंदर निकलती हे तो उस से औरत के पेट मैं बच्चा ठहर जाता है."

मैं इतनी ज़ियादा गरम हो चुकी थी के मैं ने पापा की मनी अपनी टिट्स पर मल्नि शुरू करदी.

"बेटी मैं अब तुम्हारी चूत को चाटून गा ता के तुम्हारी नन्ही मुन्नी चूत पापा के मोटे सख़्त लंड को अंदर लेने के लिये तय्यार हो जाए."
-  - 
Reply
07-14-2017, 01:23 PM,
#3
RE: बाप बेटी की कहानी - पापा की हेल्पिंग बेटी
आज मैं अपने प्यारे पापा से जो कुत्छ भी चुदवाने के नाम पर करवाने जा रही थी, यह मेरी ज़िंदगी का सब से अनोखा तजर्बा था. आअज से पहले मैं अपनी चूत को सिर्फ़ पेशाब करने की जगह समझती थी. मुझे आज पहली बार पता चला के चूत मैं ऐसी खारिश भी होती हे जो सिर्फ़ लंड से मिट ती हे. मुझे आज और अभी पता चला के चूत को चाट ते भी हैं.

पापा अब खुद सीधे हो कर लेट गए और मुझे अपने ऊपेर आने को कहा. मैं पापा के ऊपेर इस तरह लेटी के मेरी चूत पापा के मुँह पर थी और पापा का दोबारा से खरा होता हुआ लंड मेरे होंठो के एन सामने था.

पापा ने पीछे से मेरी दोनो रानो को हाथ डाल कर खोलते हुए मेरी चूत को अपनी ज़बान से चाटना शुरू किया. पापा की ज़बान मेरी चूत मैं लगने की देर थी के मेरे सारे जिस्म मैं करेंट सा दौड़ने लगा. ऐसा ही करेंट जैसा बिजली के लाइव तार को छूने से होता हे. पापा की ज़बान मेरी चिकनी चिकनी नन्ही मुन्नी चूत के पंखों के बीच मैं घूम रही थ्री. कभी पापा मेरी चूत के दाने पर ज़बान फेरते, और मैं बुरी तरह से मचल जाती. फिर पापा उस जगह ज़बान फेरते जहाँ से मेरी पी निकलती हे. पी की जगह पेर ज़बान लगते ही मुझे अभी ज़ोर से पी आनी होने लगती के पापा एक दम मेरी चूत के चोदने वाले छेद मैं ज़बान डाल कर चाटना शुरू कर देते.

इधर मेरी आँखों के बिल्कुल सामने पापा का पूरी तरह तना हुआ लंड था. मैं इतने क़रीब से पापा के लंड को पहली दफ़ा देख रही थी और सोच रही थी के यही वो लंड है जिसने मम्मी को चोदा और उसकी वजह से मैं पैदा हुई, और आज खुद अपने बाप के ऊपेर लेट कर उसके लंड को सामने देख रही हूँ, हाथ मैं पकड़ रही हूँ और चूस रही हूँ, और पापा अपनी ही सग़ी बेटी की चूत को चाट और चूस रहे हैं.

"पापा मेरी चूत मैं बहुत खारिश हो रही हे ... उफ़ मर जाऊंगी ... पापा बहुत खुजली हो रही हे ..."

पापा ने जुब यह सुना तो मुहज़े अपने ऊपेर से उतार कर बेड पेर चित लिटा दिया, और मेरी टाँगों के बीच मैं घुटनो के बल बैठ कर बोले"

"जानू, अब पापा अपनी बेटी के साथ वो करने जा रहे हैं जो पापा तुम्हारी मम्मी के साथ करते थे. तय्यार हो तुम, शहला?"

"पापा क्या अब आप चोदन्गे मुझे? पापा बहुत मोटा और सख़्त लंड है आप का, और लंबा भी बहुत हे. इतना मोटा लंड कैसे मेरी चूत मैं जाएगा, पापा?"

"मैं ने अपनी बेटी की चूत चाट चाट कर इतनी चिकनी कर दी हे अब इस्मे हाथी का लंड भी चला जाएगा. डरो मूत शहला, मैं पहले सिर्फ़ अपने लंड के टोपी चूत मैं डालूँगा. फिर आहिस्ता आहिस्ता चोद्ते हुए पूरा लंड डालूं गा."

यह कहते हुए पापा ने मेरी दोनो टांगे उठा कर अपने कांधों पर रखीं, और मेरी गोल गोल गांद के नीचे पिल्लो रख दिया, जिस से मेरी गांद और चूत बिल्कुल ऊपेर उठ गई. पापा मेरे उपर आ गए और मेरी दोनो टिट्स को पकड़ते हुए कहा: "शहला .. पहली दफ़ा तुम मुझ से चुदवा रही हो.. अच्छा हे के बेटी अपने बाप का लंड खुद अपने हाथ से पकड़ कर अपनी चूत के छेद से लगाए."

मैं और पापा फुल मस्ती मैं थे. मैं ने राइट हॅंड से पापा का तना हुआ लंड जो मेरे चूसने की वजह से चिकना हो रहा था, पकड़ कर उसकी टोपी को अपनी चूत के मुँह से लगाया.

पापा ने होले से अपने लंड को मेरी चूत मैं पुश किया, और इसके साथ ही मेरी चूत के छेद मैं पापा के लंड की टोपी फँस गई.

"मज़ा आया शहला?" पापा ने कहा

मेरी नज़रे पापा की नज़रों से मिली, और मैं शरम से आँखे बूँद करली. पापा ने बे इकतियार हो कर, मेरे गालों, मेरे होंठो और मेरी टिट्स को प्यार करना शुरू कर दिया.

अब जब के पापा का लंड अपनी बेटी की चूत मैं जा चुका था, तो मुझे शरम आ रही थी के आज मैं अपने ही सगे बाप से चुदवा रही हूँ.

"जानू, और लंड डालूं अंदर?"

मैं ने शरम से कुत्छ ना बोल पाई. पापा ने फिर कहा: "जानू, शर्मा क्यूँ रही हो अपने पापा से. अब तो पापा का लंड जा चुका हे तुम्हारी चिकनी चूत मैं. बोलो और डालूं अंदर; जानू मैं पूरी तरह लंड तुम्हारी चूत मैं डाल कर चोदना चाहता हूँ. वही सही चुदाई होती है".

मैं फिर भी कुत्छ ना बोली और सिर्फ़ मेरे मुँह से आहिस्ता से "हूँ" निकल सका.
-  - 
Reply
07-14-2017, 01:23 PM,
#4
RE: बाप बेटी की कहानी - पापा की हेल्पिंग बेटी
पापा जैसे हे मेरी "हूँ" सुनी, और उन्हों ने एक हे झटके से अपना पूरा सख़्त और लंबा लंड मेरी चूत मैं डाल दिया. मेरी चूत चिकना चिकना पानी छोड़ रही थी, मगर फिर भी पहली दफ़ा तकलीफ़ की वजह से मेरी चीख निकल गई.

"मर गई पापा. दर्द हो रहा मेरी चूत मैं बहुत ज़ोर का. मेरी चूत फॅट गई पापा. उफ़ .... मर गई ..."

पापा ने मेरी टांगे अपने कांधो से उतार कर मेरे जिस्म को अपने जिस्म से सटा लिया. मेरी टांगे खुली हुई थी औरइस दर्मयान पापा का लंड पूरा का पूरा मेरी छोटी सी चूत मैं घुसा हुआ था. मेरी चीख सुन कर पापा ने मुझे प्यार करते हुए कहा: "जानू, पहली पहली बार दर्द होता है, 2 मिनिट मैं यह दर्द ख़तम हो जाए गा, और फिर मज़ा आने लगे गा. वैसे भी तुम्हारी चूत इस क़दर टाइट हे के रब्बर बॅंड की तरह मेरे लंड को जकड़ा हुआ है".

हम दोनो बाप बेटी कुत्छ देर तक उन्ही लिपटे रहे. इस दोरान पापा मुझे किस करते रहे. मेरी आँखों मैं तकलीफ़ की वजह से आँसू आ गए थे. पापा के प्यार करने से मैं ठीक होने लगी और मैं ने भी पापा के होंठो पेर प्यार करना शुरू किया. किस करते हुए पापा ने अपनी ज़बान मेरे मुँह मैं डाल दी, और मैं पापा की ज़बान को चूसने लगी. पापा की ज़बान से मुझे अपनी चूत का टेस्ट आ रहा था. मैं बहुत ज़्यादा गरम हो गई. उत्तेजना से मेरा बुरा हाल होने लगा. पापा ने फिर मेरे बूब्स को चूसना शुरू किया, और मैं बुरी तरह मचलने लगी.

दर्द अब बिल्कुल ख़तम हो गया था और उसकी जगह वाक़ई अब मुझे इतना मज़ा आ रहा था के मैं बता नहीं सकती. मैं सोच रही थी के मम्मी भी इसी तरह पापा से चुदवाते हुए मज़ा लेती होंगी.

जुब मज़ा मेरी बर्दाश्त से बाहर हो गया, और पापा उन्ही मेरे ऊपेर पड़े हुए थे, तो मुझ से रहा ना गया: "पापा, कुत्छ करो ना .... मेरी चूत मैं आग लगी हुई है ...."

इस के साथ ही मैं ने नीचे से पापा को ऊपेर की तरफ पुश किया. पापा अपनी बेटी का इशारा समझ गये.

"चलो अब अपनी जानू को गौद मैं ले कर चोदुन गा"

यह कहते हुए पापा ने मुझे अपनी गौद मैं भर लिया; इस तरह के मेरी दोनो टांगे उन्हो ने अपनी कमर (वेस्ट) के गिर्द लपट लीं, और मेरे दोनो बाज़ू अपनी नेक के गिर्द लपट लिये, और इस तरह मेरी गांद को नीचे से पकड़ते हुए वो बेड से उतर कर मुझे गौद मैं ले कर फर्श पर खड़े हो गये. पापा का लंड उसी तरह से पूरा मेरी चूत मैं फँसा हुआ था.

इसी तरह उठाए हुए पापा मुझे ड्रेसिंग रूम के फुल साइज़ मिरर के सामने ले गये.

"जानू, देखो मिरर मैं. कैसे लग रहे हैं हम दोनो बाप बेटी?"

मैं मिरर मैं देख कर बुरी तरह शर्मा गयी.

"पापा ... आप बड़े वो हैं ..."

पापा मिरर के सामने इस तरह खड़े थे के मेरी बॅक साइड मिरर की तरफ थी. मैं ने एक बार फिर अपनी नेक घुमा कर मिरर की तरफ देखा. हम दोनो बाप बेटी बिल्कुल नंगे थे. मैं पापा की गौद मैं बंदरिया की तरह लिपटी हुई थी. पापा ने अपने दोनो हाथों से मेरी गांद को थामा हुआ था. पापा की उंगलियाँ मुझे अपनी गांद के गोश्त के अंदर घुसती हुई दिखाई दे रही थी. मेरी गांद का सुराख पूरी तरह से खुला हुआ था. और उसके नीच पापा का मोटा सख़्त लंड जड़ तक मेरी चूत मैं फँसा हुआ था. मेरी चूत के छेद ने पापा के लंड को रब्बर बॅंड की तरह ग्रिप किया हुआ था.

"कैसी बुरी लग रही हूँ मैं पापा .... "

"नही जानू, तुम बहुत हसीन लग रही हो. बिल्कुल उतनी हसीन जितनी एक लड़की मज़े ले कर चुदवाते हुए लगती है.... इतना हसीन जिसम हे मेरी बेटी का .... बिल्कुल ब्लू बॅंड मार्जरिन की तरह .. देखो मिरर मैं, कैसे पापा ने अपनी बेटी की मोटी ताज़ी गांद को पकड़ा हुआ हे ... और मेरा लंड कैसा लग रहा अपनी जानू बेटी की टाइट चूत मैं ...."

पापा ने यह कहते हुए मेरी गांद को ऊपेर उठाया, यहाँ तक के उनका लंड खींचता हुआ टोपी तक बाहर आ गया.

"बहुत टाइट चूत हे मेरी बेटी की. उफ़ मज़ा आ गया जानू .... इस तरह तो 3 या 4 धक्कों मैं हे मेरी मनी निकल जाए गी"
-  - 
Reply
07-14-2017, 01:23 PM,
#5
RE: बाप बेटी की कहानी - पापा की हेल्पिंग बेटी
यह कहते हुए पापा ने मेरी गांद को नीचे करते हुए अपने लंड को मेरी चूत मैं पुश किया. फिर बाहर निकाला, फिर किया. और फिर बगैर रुके तेज़ी से वो अपने लंड को मेरी चूत के अंदर बाहर करते रहे. पापा पूरी तरह जोश और मस्ती मैं आ गये था. उनके गले से अजीब अजीब आवाज़े निकल रही थी. मुझे अब पता चला के चुद रही हूँ. इसे चोदना कहते हैं. मेरी अपनी हालत खराब हो चुकी थी. मेरे मुँह से भी है हाई की और बिल्ली की तरह घुर्रने की आवाज़ निकल रही थी.

"चोद रहा हूँ अपनी जानू को .... लंड जा रहा तेरी चूत मैं जानू ... चुद मेरे लंड से .... चुद अपने पापा के लौरे से .... मज़ा आ रहा से .... टाइट चूत है मेरी बेटी की .... "

"पापा चोदो अपनी बेटी को .... चोदो मुझे ..... फाड़ दो मेरी चूत को ..... उफ़ मरगई पापा ... बोहत सख़्त लंड है आप का ...... उफ़ लंड पेट मैं चला गया मेरे ..... पापा फॅट गई मेरी चूत .... चोदो ..... चोदो ..... उफ़ चुद गई मैं मम्मी. ओ' मम्मी पापा ने चोद दिया मुझे ...... पापा ज़ोर से चोदो .... और ज़ोर से चोदो ..... धक्के लगाओ ज़ोर ज़ोर से ...... मज़ा आ रहा है ..."

अब मेरा जिस्म अकड़ना शुरू हो रहा था. मुझे अपना दिमाग़ घूमता हुआ महसूस हो रहा था. मेरी चूत के सारे मुस्छले अकड़ने लगे थे. और चूत के अंदर पापा का लंड फूलने और पिचकने लगा था.

"उफ़ जानू मेरी मनी निकल रही तेरी चूत मैं." इस के साथ ही पापा का जिस्म बुरी तरह मुझे गौद मैं लिये झटके मारने लगा. मेरी गांद को पूरा नीचे खींच कर अपने लंड के साथ जमा दिया, और नीचे से अपने पूरी तरह मेरी चूत मैं फँसा दिया.

पापा की गरम गरम मनी की पिचकारिया मुझे अपनी चूत की गहराइयों मैं जाती हुई सॉफ महसूस हो रही थी. इस के साथ ही मैं भी ख़तम हो रही थी और मेरी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था.

हम दोनो बाप बेटी का जिसम अब ढीला पड़ता जा रहा था. पसीने मैं हम दोनो नहा चुके थे. मेरी चूत मैं बिल्कुल ठंडी पड़ गई थी. पापा का लंड भी ढीला पड़ने लगा था. मगर अभी तक मेरी चूत मैं ही.

पापा इसी तरह मुझे गौद मैं लिये लिये, सोफे पेर बैठ गये, और मैं अपने पापा के सीने के साथ यूँही चिपकी रही. मेरी पसीने मैं भीगी हुई छातियाँ पापा के बालों भरे सीने से पिसी हुई थी.

पापा का लंड आख़िर नरम हो कर मेरी चूत से बाहर निकल आया, और इसके साथ ही मेरी चूत से पापा की मनी बह बह कर बाहर आने लगी.

सोफा खराब ना हो जाए, इस ख़याल से मैं ने नीचे अपनी चूत पर हाथ रख दिया, और पापा की मनी अपने हाथो मैं ले ले कर अपने पैर ऑर बूब्स पर मलने लगी.

क्रमशः..................
-  - 
Reply
07-14-2017, 01:25 PM,
#6
RE: बाप बेटी की कहानी - पापा की हेल्पिंग बेटी
पापा की हेल्पिंग बेटी--भाग -2

हेल्लो दोस्तों आप लोगों ने इस कहानी के पहले भाग को काफी पसंद किया मेरे पास काफी मेल भी आए

सबने यही कहा इस कहानी का अगला भाग जल्दी मेल करो मुझे बहूत खुशी हुयी की आपको कहानी पसंद आयी

अब मैं आपको और ज्यादा बोर नहीं करूँगा क्यौकी मैं जानता हूँ आप की कहानी का मजा किरकिरा हो रहा हैं

आपका दोस्त राज शर्मा

पापा और मैं अब थक चुके थे. हम दोनो बाप बेटी बेड पेर जा कर एक दूसरे की बाँहों मैं लिपट कर लेट गाए. मैं पाप के सीने से बरी तरह चिप टी हुई थी, और पापा के होंठों को किस कर रही थी. मेरे टिट्स पापा के सीने से मिले हुए थे.

"कैसा लगा मेरी जानू को?" पापा ने आहिस्ता से मेरे कान से मुँह लगा कर पूछा.

"आप को कैसा लगा पापा?

"जानू, मुझे टॉ बहुत अछा लगा. तुम्हारी अम्मी के बाद आज तुम ने वो मज़ा दिया हे के बता नहीं सकता. बहुत टाइट चूत हे मेरी नूरी की. आज मुझे पता चला के मेरी बेटी का जिस्म कितना सेक्सी हे. जी चाहता के बस अपनी नूरी जानू को चोदता रहूं." यह कहते हुए पापा ने मेरी गाड़ की दोनो गोलाईयों पर हाथ फेरना शुरू कर दिया.

मैं ने अपनी एक टाँग पापा के दोनो टाँगों के बीच मैं डाल कर पापा को अपने से और क़रीब कर लिया, के पापा का लंड मेरी चूत के उपर रगर खाने लगा.

मैं नंगी थी और पापा भी नंगे थे. हमारे दोनो के नंगे जिस्मों मैं फिर से आग दहकने लगी. मैं तो आज इतनी छोटी सी उमर मैं पहली दफ़ा चुदी थी, इस लिये मुझे बहुत ज़ियादा अब बार बार चुड़वाने की खाविश हो रही थी. मेरा बस नही चल रहा था के मैं पापा के कहूँ के बस वो मुझे चोदते रहाीन.

मैं अपनी गांद को आगे की तरफ पुश कर कर के अपनी चूत को पापा के लंड से रगर रही थी. पापा का लंड फिर से तन कर सख़्त हो गया था.

"जानू फिर से चोदू तुम्हे?" पापा मेरी हरकतों से शायद समझ गये थे.

"हून …" मैं इस हून के साइवा कुछ और ना बोल सकी और शरमा कर मैं ने अपना मुँह पापा के सीने मे छुपा लिया, और एक हाथ से पापा का सख़्त लंड मुथि मैं जकर लिया. पापा का लंड मेरी मुथि मैं आते ही बुरी तरह से मचलने लगा.

"मैं अब अपनी प्यारी सी बेटी को पीछे की तरफ से घोरी बना कर चोदूगा" पापा ने यह कहते हुआी मुझे औंधी हो कर गांद ऊपर उठाने को कहा.

मैं बेड पेर औंधी हो गई और गाड़ बिल्कुल ऊपर उठा दी. पापा ने पीछे से मेरी गोल गोल गांद को अपने दोनो हाथों मैं थाम लिया और बजाए अपना लंड मेरी चूत मैं डालने के, उन्हो ने अपनी ज़बान से मेरी चूत चाटनी श्रु करदी.

पीछे से मेरी चूत चाटने की वजह से मेरा बुरा हाल हो गया और मेरे पूरे जिस्म मैं जैसे करेंट सा दौरने लगा.

"पापा …. मार गई …. उफ़ पापा …. काइया कर रहे हैं मेरी चूत मैं ….. मार जाऊंगी ….. चोदिए मुझे …… चोदिए पापा …… मेरी छूट को छोदान ….. लंड डालैन अपना मेरी छूट मैं …..!!"

पापा ने आख़िर एक हाथ से मेरी गांद पकरी और दूसरे हाथ से अपने लंड की टोपी मेरी चूत के छेड़ से लगाते हुआी कहा: "नूरी …. डालूं लंड तेरी चूत मैं .. .. .. उफ़ नूरी कितनी चिकनी और गुलाबी चूत हे मेरी बेटी की …." पापा मेरी चूत पेर अपना लंड फेर रहे थे. मेरी चूत के दाने से लंड की टोपी जुब टच होती तो मैं बुरी तरह मज़े मैं काँपने लगती .
-  - 
Reply
07-14-2017, 01:25 PM,
#7
RE: बाप बेटी की कहानी - पापा की हेल्पिंग बेटी
"छोदिए ना पापा …. डालै ना अपना लंड अपनी बेटी की चूत मैं …… मार जाऊंगी ….. पूरी ताक़त से चोदै मुझे ….. आग लग रही हे मेरी चूत मैं पापा …."

पापा ने फिर एक ही धक्के मैं अपना पूरा लंड मेरी चूत मैं डाल दिया और मेरी गोल गोल गोरी गोरी गांद को पाकर कर अपने लंड को तेज़ी से मेरी चूत के अंदर बाहर करते रहे. पापा के लौरे का एक एक झटका मुझे जन्नत की सैर करवा रहा था. मैं अपनी गांद को पापा के हर झटके पेर पीछे पापा के लंड पेर मार रही थी. पापा ने मेरी गांद पेर से हाथ हटा कर मेरी टिट्स को अपनी मुति मैं कस कर पाकर मेरी चूत को चोदना जारी रखा.

मेरे मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थी. मैं अपनी आंखें बन्द किये चुदाई का भरपूर मज़ा ले रही थी.

"उफ़ जानू तेरी चूत …. मज़ा आ रहा मुझे अपनी बेटी को चोदने का ….. नूरी चुद मेरे लंड से …. चुद मेरे लंड से ….. नूरी तेरी मया की चूत को चोदु …. उफ़ मेरी बेटी की चिकनी चिकनी टाइट चूत को चोद रहा हूँ."

इधर मेरा भी बुरा हाल था. "पापा चोदिये …. चोदिये …. चोद मुझे …. ज़ोर ज़ोर से …. चोद …. चोदो ….. फार दो मेरी चूत को …. उफ़ काइया करूँ ….. मार गई …. ख़तम होने वाली हून पापा …. छूटने वाली हून …."

मेरी चूत ने पापा के लंड को ग्रिप कर लिया. एक दूं पापा ज़ोर से चीखे. "मनी निकल रही हे मेरी ….. अपनी बेटी की चूत मैं …"

एक दूं से मुझे पापा के लंड से मनी का तेज़ गरम गरम फवर अपनी चूत मैं निकलता हस महसूस हुआ. और इधर मैं भी छूटने लगी. पापा और मेरा जिसम साथ साथ झटके मार रहा था.

पापा की मनी निकलने से उनका लंड ढीला परने लगा और गहरी गहरी साँसें लेते हुआी पापा मेरे ऊपर मुझे अपने बॉडी के नीचे दबाते हुआी लेट गाए. मेरी साँसाइन भी तेज़ तेज़ चल रही तीन.

"उफ़ … मज़ा … आ गया …. नूरी."

हम दोनो कुछ देर योही लेते रहे. फिट सीधे हो कर एक दूसरे की बाहों मैं लिपट कर सो गाए. नींद आने से पहले जो चीज़ मुझे महसूस हुई, वो पापा की मनी थी, जो मेरी चूत से आहिस्ता आहिस्ता बाहर मेरी राणो पेर निकल कर बह रही थी. मैं ने हाथ नीचे ले जा कर पापा की बहती हुई मनी अपनी चूत और राणो पेर मालनी शुरू की, और फिर पता नहीं कब सो गई.

सुबा जुब मेरी आंक खुली तो अछी ख़ासी रोशनी हो चुकी थी. आँख खुली तो देखा के मैं ने पापा का तना हुआ लंड अपने हाथ मैं जाकरा हुआ था. मेरी मुथि मैं से पापा के लंड की टोपी फूल कर पर्पल कलर की हो रही थी और चमक रही थी. ट्रॅन्स्परेंट कलर का पानी पापा के लंड के छेद से निकल रहा था. मैं ने अपनी उंगली से पानी को छुआ टॉ लेसदार पानी था, चिकना चिकना.

पापा भी उठ गाए और उठे ही मुझे अपने जिसम से चिपेट कर किस करने लगे.
-  - 
Reply
07-14-2017, 01:25 PM,
#8
RE: बाप बेटी की कहानी - पापा की हेल्पिंग बेटी
"पापा मुझे पी आ रही हे"

"मुझे भी आ रही हे जानू"

चलो आओ मेरे साथ बाथरूम मैं.

पापा से चुड़वाने वाली बात और थी. मगर यह सोच कर के मैं पापा के साथ बाथरूम मैं जा कर कैसे पापा के सामने कमोड पेर बैठ कर पी करूँगी, और पापा मेरे सामने पी करेंगे, मुझे बहुत शरम आई.

"नहीं पापा, मुझे आप के सामने पी करते शरम आए गी"

"जानू, जुब तुम अपने पापा से चुदवा चुकी हो, हम दोनो पूरी रात से नूँगे एक दूसरे के सामने हैं, टॉ पी करने मैं काइया है …. आओ … चलो मेरे साथ …"

पापा यह कहते हुए मुझे बेड से उतार कर मेरी कमर मैं हाथ डाल कर मुझे बाथरूम मैं ले गए.

(आगे क्या हुआ. पापा और मैं ने "पी" को कैसे एंजाय किया …. पापा ने बाथरूम मैं कैसे मुझे चोदा
-  - 
Reply
07-14-2017, 01:25 PM,
#9
RE: बाप बेटी की कहानी - पापा की हेल्पिंग बेटी
पापा की हेल्पिंग बेटी. पार्ट-3

बातरूम के अंदर जाते ही पापा ने मुझे अपने से लिपटा लिया. बेड पेर तो मुझे अपनी हाइट का अंदाज़ा नही हुआ , मगर खरे हुए हालत मैं पता चला के मेरा सिर पापा के सीने तक ही पहुच पाया था. अभी सिर्फ़ मैं 13 साल की थी. हां थोरी सी मोटी थी. गोरा रंग था मेरा, जिस्म मेरा भरा भरा सा था और गांद मेरी खास तौर से बहुत मोटी और बाहर की तरफ निकली हुई थी. यह सब मैं इस लिये बता रहीं हूँ के मुझे पापा से लिपट कर अपने सरपे का एहसास हुआ. खरे होने की वजह से पापा का मुरझाया हुआ लंड मेरी टिट्स को छू रहा था.

पापा मुझे झुक कर प्यार कर रहे थे और मेरे सारे जिसम और मेरी गांद और चूत पेर हाथ फेर रहे थे.

"उफ़ जानू कितना प्यारा और सेक्सी जिसम हे मेरी बेटी का…. क्या करूँ तेरे साथ जानू ….. बिल्कुल मुलतानी चिकनी मिट्टी की तरह जिसम हे तेरा जानू ….. "

इस के साथ ही पापा ने जब मेरी चूत के दाने (क्लिट) पेर उंगली फेरी तो मेरे सारे जिसम मैं सनसनी दौर गई. पेशाब मुझे भोथ ज़ोर से आ रहा था. पिछळी शाम से मैं ने पेशाब नही काइया था.

"पापा मुझे बहुत ज़ोर से पी आ रही हे, निकल जाई गी"

मगर पापा ने मेरी एक ना सुनी और बाथरूम के टाइल वाले फरश पेर लेट कर उन्हो ने पाकर कर मुझे अपने मुँह पेर बिठा लिया.

मेरी हालत यह थी के एक तरफ मुझे फिर से चुड़वाने की शडीड खाविश हो रही थी, और दूसरी तरफ मुझे बरी ज़ोर का पेशाब आ रहा था, और तीसरी तरफ मैं स्क्वाटिंग पोज़िशन मैं पापा के मुँह के साथ अपनी चूत लगाए बैठी थी.

"पापा, प्लीज़ मुझे पी करने दें पहले …. निकल जाए गी नहीं तो ….."

"तो करो ने पी" पापा एक लम्हे के लिये मेरी चूत से मुँह हटा कर बोले. पापा की ज़बान मेरी चूत के पेशाब वाली जगह को चाट रही थी.

मैं हैरान रह गई. मुझे अपने कानो पेर यक़ीन नही आ रहा था के पापा ऐसा भी सोच सकते हैं.

"ची पापा …. आप के मुँह मैं चला जाए गा मेरी पी … पापा आप बोहट गंदे हैं .."

"जानू करो मेरे मुँह मैं … अपनी बेटी का पेशाब पीऊँगा … कर मेरी जान …"

पापा यह कहने के बाद मेरी गांद को ज़ोर से पाकर कर मेरी चूत पूरी की पूरी अपने मुँह मैं भर ली, के मैं अब कुत्छ भी नहीं कर सकती थी, सिवाए पापा के मुँह मैं पी करने के. पी को रोकना अब मेरी बर्दाश्त से बाहर हो रहा था. ऐसा लगता था के अगर मैं ने अब और एक सेकेंड भी देर की तो मेरा ब्लॅडर फॅट जाए गा.

फिर मेरी पेशाब के सुराख से पहली गरम गरम तेज़ धार मेरे पापा के मुँह मैं निकली. एक धार मार कर मेरा पेशाब रुक गया. मुझे लगा के पापा का मुँह मेरी एक धार से पूरा भर गया होगा. मेरी चूत चुनके पापा के मुँह मैं पूरी घुसी हुई थी, लहज़ा मुझे पापा के मुँह की मूव्मेंट से पता चल गया के पापा ने अपने मुँह मैं भरा हुआ मेरा यूरिन पी लिया हे.

"जानू ….. अब खरी हो कर अपने पापा पेर पेशाब करो … लेकिन आहिस्ता आहिस्ता …. जितना भी रुक रुक कर कर सकती हो … मेरे मुँह पेर …. मेरी बॉडी पेर और पापा के लंड पेर …"

मैं पापा के मुँह पेर से उठ कर खरी हो गई. मैं ने अपनी गांद बिल्कुल आगे की तरफ करते हुआी, अपनी चूत को अपनी उंगलिओन से चीरते हुआी पेशाब की एक सीधी धार पापा के चेहरे पेर मारी. पापा मुँह को पूरा खले हुआी थे. मेरे गोलडेन कलर की गरम पेशाब की फुल तेज़ धार पापा के चेहरे पेर पार्टी हुई उनके मुँह मैं गई. मुझे पापा के हलाक़ से गर्र्र्र…गर्र्र्र…ग.र.र.र.र.र की आवाज़ आई, और पापा का खुला हुआ मुँह मेरे पेशाब से पूरा भर गया, बुलके उनके होंटो के किनारों से मेरा पेशाब झाग की शकल मैं बह रहा था. पापा के मुँह मैं अपनी पी देख कर मेरी जो मस्ती से हालत हो रही थी वो मैं बता नहीं सकती. जी चाहता था के अपने पापा के मुँह से अपना मुँह लगा कर उन्हे खूब प्यार करूँ और पापा के साथ अपनी पी शेर करूँ.

मेरी पी अब रुक नही रही थी. मेरी चूत से मेरी गोलडेन पी अब पापा के बॉडी पेर गिर रही थी. फिर पीछे हट तय हुआी मैं ने पापा के हाफ हार्ड लंड पे पेशाब करना श्रु काइया. इसी तरह मैं ने आगे पीछे होते हुआी पापा को पूरा का पूरा अपने यूरिन से नहला दिया. बात रूम का पूरा वाइल टाइल्ड फ्लोर मेरे यूरिन से गोलडेन हो रहा था. पापा ने फिर मेरा हाथ पाकर कर मुझे अपने ऊपेर गिरा लिया. मेरा पेशाब अब भी मेरी चूत से निकल रहा था. इतना ज़ियादा पेशाब मैं कर रही थी के मैं हैरान रह गई. पापा के जिसम से लिपटने की वजह से मैं भी अपने यूरिन मैं गीली हो गई. पापा ने अपने मज़बूत बाज़ू मैं मुझे जाकरा हुआ था और मेरे मुँह की चूमियँ ले रहे थे. मुझे अपने पी की तेज़ स्मेल अपने और पापा के जिसम से आ रही थी.

"अब खुश पापा? मज़ा आया आपको?" मैं ने पापा से पूछा.

"उफ़ जानू इतना मज़ा आया के मैं बता नहीं सकता! मेरी बेटी को मज़ा आया?"

"पापा मुझे पता नहीं था इस तरह करने मैं इतना मज़ा आता है. भोथ ज़ोर से पी आ रही थी, इस लिये मज़ा भी भोथ आया, बस अब चोदो मुझे…"

यह कहते हुआी मैं पापा के लंड पेर अपनी चिकनी हेरलेस चूत को रगार्ने लगी. मेरे चूत रगार्ने की वजह से पापा का लंड पूरा तन कर सख़्त हो गया, और मेरे पायट मैं घुसने लगा.

"जानू अभी मज़ा तुम ने और मैं ने पूरा कहा लिया हे … मुझे भी तो पी करनी हे. मैं ने भी कल आफ्टरनून के बाद से पी नहीं की … "

यह सुन कर के अब पापा पी कराईं गे और वो भी मेरा ऊपेर, मैं लिज़्ज़त और मस्ती मैं पूरी भर गई.

पापा ने मुझे बात टब के अंदर बैयतने को कहा. फिर उन्हो ने बात टब की ड्रेन को रब्बर प्लग से बूँद कर दिया. मैं समझ गई के पापा अपना यूरिन बात टब मैं से ड्रेन आउट नही करना चाहते थे.

मैं बात टब मैं अपनी नीस पेर खरी हो गई, और पापा ने मेरे सामने खरी हो कर अपना लंड की टोपी मेरे मुँह मैं डाल दी.

"जानू, अब पापा की पी निकलने वाली हे …. तय्यार हो?"
-  - 
Reply

07-14-2017, 01:25 PM,
#10
RE: बाप बेटी की कहानी - पापा की हेल्पिंग बेटी
मैं ने इशारे से सिर हिला कर हन कहा. रात से मैं जिस सिचुयेशन से गुज़र रही थी, ये मेरी लाइफ की सूब से थ्रिलिंग सिचुयेशन थी. मुझे कभी इन सूब बातों का तस्सावार भी नही आया था, और ऊपेर से यह यूरिन वाली सिचुयेशन ने तो मुझे मस्ती की इंतिहा बुलंडीओन पेर फॉनचा दिया था.

अचानक पापा के लौरे से पेशाब की गरम गरम नमकीन धार मेरे मुँह मैं निकली, और मेरा मुँह भर गया. मैं बे इकतियार पापा का पेशाब पीने लगी. धार इतनी तेज़ी से निकल रही थी के पापा का पेशाब मेरे मुँह के किनारों से निकल कर मेरे जिसम पेर बह रहा था.

फिर पापा ने लंड मेरे मुँह से बाहर निकाला और मेरे हेर्स, फेस और टिट्स पेर अपने गोलडेन, गरम पेशाब की तेज़ धार मरते रहे. मेरा बस नही चल रहा था के मैं काइया करूँ. मैं अपने दोनो पाम्स ज़ोर कर पापा का पेशाब उसमे भारती और अपने फेस तो धोती और अपनी छातियों पेर डालती रही.

जुब मैं मज़े और मस्ती की हाइट पेर थी तो पापा का पेशाब एक दूं रुक गया.

"पापा काइया हुआ?"

"अभी तो श्रु हुआ हे जानू" पापा ने यह कह कर मुझे टब मैं लेटने को कहा. मैं चिट हो लेट गई और अपनी तांगे खोल दी.

पापा ने मेरे पावं के तरफ खरे हो कर अपना लंड पाकर के मेरी पूरी बॉडी पेर अपने पेशाब की गोलडेन और गरम गरम नमकीन धार मारनी श्रु करदी. मैं सिर के बलों से ले कर फीट तक पापा के गोलडेन पेशाब मैं डूब गई. पापा के पेशाब की धार मेरी आँखों पेर, होंतों पेर, मुँह मैं, छातियों पेर, मेरे पायट और चूत पेर गिर रही थी. मैं बुरी तरह से पापा का पेशाब अपने पूरे जिसम पेर माल रही थी और अपनी चूत को पापा के पी से नहला रही थी.

पापा के गरम गरम पेशाब की तेज़ धार मेरी बॉडी पेर अजीब सा मज़ा दे रही थी. बात टब का होल बूँद होने की वजह से, बात टब मैं पापा का गोलडेन यूरिन भरा हुआ था, और मैं उस यूरिन मैं जैसे स्विम कर रही थी. पापा का जुब पेशाब ख़तम हुआ तो वो बात टब मैं मेरे फीट के पास बैठ गाए.

"पापा अब चोदोना मुझे … मुझ से बर्दाश्त नही होता ….. मैं मार जाऊंगी पापा ….. अपना लंड डालो मेरी चूत मैं …" . मेरी हालत चुड़वाने की खाविश की वजह से बहुत बुरी हो रही थी.

बाथ टब की स्पेस टाइट हनी की वजह से पापा को मेरी टांगें उठा कर मुझे चोदने मैं मुश्किल हो रही थी. पापा ने मुझे उल्टी हो जाने को कहा. मैं औंधी हो गई और अपनी गांद पूरी ऊपर उठा दी, ताकि पापा को अपना लंड मेरी चूत मैं डालने मैं मुश्किल ना हो. मगर औंधी होने मैं मेरा चेहरा आधे से ज़ियादा पापा के यूरिन मैं डूबा हुआ था. जनरली, यूरिन की स्मेल अछी नही लगती, मगर उस वक़्त मुझे अपने पापा के पेशाब की स्मेल बोहट अछी लग रही थी. पापा का गोलडेन पेशाब मेरी नोस और मेरे मुँह मैं जा रहा था.

पापा ने झुक कर अपना लंड मेरी चूत मैं डालने की कोशिश की, लेकिन जगह तुंग हो ने की वजह से उन्हे मुश्किल हो रही थी.

"जानू, बाथ टब से बाहर जा कर तुम्हे चोदना परे गा" पापा ने कहा.

"नहीं पापा यहीं चोदो … आप के पेशाब मैं लिपट कर चुड़वऊंगी"

पापा ने मुझे उठने को कहा, और खुद बाथ टब के फ़राश पेर हेड रेस्ट के साथ अपनी कमर टीका कर और अपनी टांगायन लंबी कर के बैठ गये. पापा का लॉरा फुल तना हुआ खरा था और मेरी पी मैं भीगा हुआ था. मैं पापा की तरफ मुँह कर के पापा के लंड पेर इस तरह बैठी के पापा के लंड की 3 इंच मोटी पर्पल टोपी मेरी चूत के छेद से लगी हुई थी. मैं ने नीचे हाथ डाल कर पापा के लंड को अपनी मुथि मे जकर लिया और लौरे को अपनी खुली हुई चूत के बीच मैं ओपपेर से नीचे की तरफ फेरने लगी. जुब मैं पापा के लंड की टोपी को अपनी क्लिट पेर फेरती तो मेरे पूरे जिसम मैं गुदगुदी हों ने लगती. मैं फुल मस्त हो चुकी थी. मैं इन सूब बातों को भूल चुकी थी के मैं अपने सगे बाप के साथ ये कर रही हूँ.

अब पापा से भी बर्दाश्त नही हो रहा था.

"जानू जल्दी से मेरा लंड अपनी चूत के अंदर ले कर मुझे चोदो, वरना मेरी मनी बाहर ही निकल जाएगी".

मैं ने पापा का लंड अपनी चूत के होल से लगाते हुआ पापा के लौरे पेर बैठती चली गई. पापा का लंड मेरी टाइट चूत को चीरता हुआ अंदर पूरा चला गया. इतना सख़्त पत्थर की तरह लंड था पापा का के मुझे ऐसे लगा के पापा का लंड मेरे पायट मैं से होता हुआ मेरे मुँह से बाहर आ जाए गा.

मेरी छोटी सी चूत मैं पापा का लंड पूरा फँस गया था, यहाँ टुक के मैं अपनी गांद को ऊपेर नीचे कर रही थी के पापा का लंड भी इसके साथ ही मेरी चूत मैं अंदर बाहर होता रहे, लेकिन लंड इतनी बुरी तरह मेरी नन्ही सी टाइट चूत मैं फँस चुका था के लंड अंदर बाहर भी नही हो रहा था.

"पापा भोथ सख़्त और मोटा लंड हे आपका … कैसे चोदु आप को"

पापा को भी मुश्किल हो रही थी मुझे चोदने मैं, इस लिये के वो नीचे से कुत्छ नही कर सकते थे. आख़िर उन्हो ने मेरी गांद के नीचे हाथ डाल कर और मुझे अपनी गोद मैं भरते हुआी उठ कर खरी हो गाए. मैं पापा के जिसम के साथ लिपट गईं. पापा इसी हालत मैं ले कर मुझे टब से बाहर आए, और फिर मुहज़े बाथरूम के फ्लोर पेर लिटा कर मेरी टाँग उठा कर मुझे चोदने लगे.

"उफ़ मेरी बेटी की चूत वाक़ई बोहट टाइट हे …. बोहट मूसखिल हो रही हे अपनी जानू को चोदने मे"

पापा अपना लंड जुब मेरी चूत मैं अंदर बाहर करने लगते तो उसके साथ ही मेरी चूत की अंदर की स्किन भी बाहर निकल आती. एक दफ़ा जो पापा ने ज़ोर लगा कर मेरी नाज़ुक चूत से अपने लंड को खींच कर बाहर निकाला तो झटके से पापा खुद भी पीछे चले गाए, और मेरी चूत मैं से बोहट ज़ोर की ऐसी आवाज़ आई जैसे के बॉटल का कॉर्क निकलने से या पेप्सी के बॉटल का ढक्कन खोलने से आती हे.

पापा ने हाथ बढ़ा कर आख़िर कोकनट आयिल की बॉटल उठाई और मेरी चूत और अपने लंड पेर खूब सारा आयिल माला. फिर जो उन्हो ने मेरी चूत से अपने लंड की टोपी को लगाया तो एक ही झटके मैं पापा का लंड फिसलता हुआ पूरा का पूरा मेरी चूत मैं चला गया. अब पापा आराम से मज़े ले ले कर मुझे छोड़ने लगे. छोड़ते हुआी कभी मेरी एप्रिकॉट जैसी टिट्स को पाकर कर चूस्टे, काहबी मुँह मैं अपनी ज़बान डाल कर मुझे प्यार करते.

"उफ़ जानू मज़ा आ रहा तुझे छोड़े मैं … चोद रहा हूँ तुझे जानू … चुद मेरे लंड से …. पूरा लंड गया मेरी बेटी की चूत मैं ….. चोद रहा हूँ अपनी बेटी को …..उफ़ तेरी टाइट चूत जानू …"

"पापा चोदो मुझे …. छोड़ो … और ज़ोर से चोदो अपनी बेटी को ….. मज़ा आ रहा हे पापा …. उफ़ पापा कितना मोटा और लंबा लंड हे मेरे पापा का …. उफ़ मार गई … पापा मेरे पेट मैं चला गया लंड आप का."

एक दम से पापा के धक्कों मैं तेज़ी आगाई. उन्हो ने मेरी गांड के नीचे हाथ डाल कर इतनी शिद्दत से धक्के मारनें शुरू किये की मस्ती से मेरी सिसकारियाँ निकलने लगीं, और मैं चूत पानी छोरने लगी. उसके साथ ही पापा ने भी चीकथे हुआी मेरी चूत की गहराइयों मैं अपनी गरम गरम मनी की धार चोर दी. मेरी चूत पापा की मनी से लाबा लूब भर गई. पापा मेरे ऊपेर गिर परे. हम दोनो बाप बेटी जैसे नशे मैं टन हो चुके थे. हम दोनो के सर बुरी तरह घूम रहे थे. हम दोनो गहरी गहरी साँसें ले रहे थे, जैसे 5 किलोमीटर की रेस लगा कर आ रहे हों.
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Behen ki Chudai मेरी बहन-मेरी पत्नी sexstories 21 283,952 4 hours ago
Last Post: Invalid
Thumbs Up Horror Sex Kahani अगिया बेताल desiaks 97 2,113 6 hours ago
Last Post: desiaks
Lightbulb antarwasna आधा तीतर आधा बटेर desiaks 47 7,423 10-23-2020, 02:40 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Desi Porn Stories अलफांसे की शादी desiaks 79 3,400 10-23-2020, 01:14 PM
Last Post: desiaks
  Naukar Se Chudai नौकर से चुदाई sexstories 30 325,627 10-22-2020, 12:58 AM
Last Post: romanceking
Lightbulb Mastaram Kahani कत्ल की पहेली desiaks 98 12,379 10-18-2020, 06:48 PM
Last Post: desiaks
Star Desi Sex Kahani वारिस (थ्रिलर) desiaks 63 10,364 10-18-2020, 01:19 PM
Last Post: desiaks
Star bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी sexstories 264 902,256 10-15-2020, 01:24 PM
Last Post: Invalid
Tongue Hindi Antarvasna - आशा (सामाजिक उपन्यास) desiaks 48 18,384 10-12-2020, 01:33 PM
Last Post: desiaks
Shocked Incest Kahani Incest बाप नम्बरी बेटी दस नम्बरी desiaks 72 68,017 10-12-2020, 01:02 PM
Last Post: desiaks



Users browsing this thread: 6 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


chudai ki dastanpakistan actress nudesurbhi nudeathiya shetty nudedesi aunties newsonali bendre assrasi nudeभाभी ने मेरे होठों से अपने होंठ लगा दिए, और मेरे होठों को चूसने लगींwww.hindi sex.comjyothika nudebhumi pednekar xxxpooja hegde nudeilliyana nudemastram ki mast kahani photoमैंने सोच लिया था कि चुदना तो है हीमैं आज जी भर के चुदना चाह रही थीsasur se chudwaiపూకులోkamukta mainnocent sex storiesvedhika nuderakul preet singh xxx imagestelugu akka puku kathalukatha sexमेरा मन तो कर रहा था, कि उसके कड़क लंड कोbiwi ko randi banayaaqsa khan nudemausi ki betisana khan nude imageskaira advani nudeaishwarya rai ki nude photoananya pandey nudesexbabamummy chudaikajal agrawal xxx imageस्कर्ट जांघों से ऊपर कर दी और उसकी जांघें चूमने लगाavika gor new nude imagesमैने अपना निप्पल उसके मुहँpayal rajput nakedsonakshi sinha ki chudai ki photodivyanka xossipantarvasna gifpreity zinta sex storyactress poorna nudedrashti dhami boobspranitha pussykannada actress sex storiessneha ullal nudetv actress nude picsonakshi sinha ki chudai ki photorajasthani nude photosex stories in telugutamanna nude fakenangi photo indianwww samantha sex photos comalia nude photoletha puku kathaluye to fuck ho gayaamazingindians.comnude pics of shruti hassanashima narwal nudenude of priyamanikangana ranaut nudesभाभी की मालिश और चुदाई की चिकनी जांघेंpuchi marathi kathaxnxx porn picssaree nude assहिम्मत करके उसकी पैन्ट की ज़िपdivya bharti nanga photodrashti dhami boobssameera reddy nuderakul sex imageskamuk kathasavita bhabhi ki nangi photomegha akash nudenivetha thomas nudelakshmi rai nude picsxossip actress fakevelamma episode 90भाभी मेरी चुम्मियाँ लेने लगीmastram ki mast kahani photoलण्ड पर अपनी गाण्ड का छेद रख दियाtv actress nude imagestelugu uncle sex storiesregina nudesharmila tagore nakedrani mukherjee nude imageहिम्मत करके उसकी पैन्ट की ज़िपtelugu sex stories 2017